BSEB, Bihar Board 10th Result 2020 : कॉपियों की फिर से जांच के लिए छात्र कल से कर पाएंगे आवेदन, बोर्ड ने जारी की स्क्रूटिनी अप्लीकेशन डेट्स

28 May, 2020, 11:35 am

Bihar Board 10th Result 2020

Bihar Board 12th Result 2020

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति यानि बीएसईबी द्वारा जारी एक अपडेट के अनुसार बिहार बोर्ड कक्षा 10 की उत्तर पुस्तिकाओं की फिर से जांच के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया कल यानि 29 मई से शुरु की जाएगी। बिहार बोर्ड 10वीं की परीक्षा के लिए ऑनलाइन स्क्रूटिनी फॉर्म सबमिशन 12 जून 2020 तक किये जा सकेंगे।

बिहार बोर्ड 10वीं स्क्रूटिनी फॉर्म 2020 के माध्यम से ऐसे छात्र अपने कॉपियों की फिर से जांच के लिए आवेदन कर पाएंगे जो कि बिहार बोर्ड द्वारा हाल ही में 26 मई को घोषित किये गये वार्षिक माध्यमिक परीक्षा, 2020 के परिणामों से संतुष्ट नहीं हैं।

बीएसईबी के अपडेट के अनुसार, समिति के अध्यक्ष आनन्द किशोर ने बताया कि माध्यमिक परीक्षा में शामिल हुए अभ्यर्थी यदि अपने किसी एक विषय या सभी विषयों में मिले अंकों से संतुष्ट नहीं हैं तो वे सम्बन्धित विषय की उत्तरपुस्तिका की स्क्रूटिनी के लिए समिति की वेबसाइट पर 29 मई से 12 जून 2020 तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

समिति ने माध्यमिक परीक्षा की कॉपियों की फिर से जांच के लिए शुल्क निर्धारित किया है। बोर्ड के अपडेट के मुताबिक बिहार बोर्ड 10वीं स्क्रूटिनी फॉर्म 2020 भरने के लिए छात्रों को प्रति विषय 70 रुपये का शुल्क देना होगा। छात्र स्क्रूटिनी शुल्क का पेमेंट ऑनलाइन कर पाएंगे। इसके लिए उम्मीदवारों को इंटरनेट बैंकिंग या क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड से करने की छूट होगी।

 

Bihar Board 10th Result 2020 : गांव-गरीब के बच्चों ने खुद के बूते पलटा मैट्रिक का रिजल्ट

28 May, 2020, 11:08 am

Bihar Board 10th Result 2020

Bihar Board 12th Result 2020

राज्य में घोषित मैट्रिक के रिजल्ट से यह एक अच्छी बात यह देखी गई कि एक और जहां नामी-गिरानी स्कूल पिछड़ गए, वहीं, गांवों और सुदूर इलाकों के स्कूलों ने बेहतर प्रदर्शन किया है। जानकार इसे बिहार के गांवों में शिक्षा के प्रति आ रहे सकारात्मक बदलाव के रूप में देखा जा रहा है। जहां प्रदेश के गांव-गरीब के बच्चों का परचम बुलंद किया है, वहीं पुराने और बेहतर रिजल्ट के लिए ख्यात स्कूलों का प्रदर्शन अपेक्षा के अनुरूप नहीं रहा। शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा ने कहा कि मैट्रिक का रिजल्ट संकेत दे रहा है कि देहाती क्षेत्रों में किस तरह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में हुए कार्यों से ग्रामीण परिवेश बदला है।

उनका मानना है कि गांव-गरीब के बच्चों के टॉप करने में स्मार्ट क्लास की उन्नयन योजना और पदाधिकारियों द्वारा लगातार स्कूलों का निरीक्षण बड़ा कारक बना है। इन दोनों ही चीजों से ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षा का स्तर ऊंचा हुआ है। दरअसल पहले से स्थापित स्कूलों का प्रदर्शन औसत रहा, लेकिन ग्रामीण स्कूलों का बेहतर हो गया है। वैसे ख्यात स्कूलों के लचर प्रदर्शन की वजह तलाशी जाएगी। कारणों को दूर करने की कोशिश होगी। शिक्षा विभाग इसकी विस्तृत समीक्षा करेगा।

शिक्षाविद् प्रो. डीएम दिवाकर ने मैट्रिक परिणाम को बदलते सामाजिक-आर्थिक परिवर्तन का वाहक बताया। कहा कि गांव के गरीब गुरबों के बीच जागरूकता बढ़ी है। लोग समझ गये हैं कि शिक्षा के माध्यम से ही हम अपने बच्चों का भविष्य बदल सकते हैं। इसलिए लोग खेत बेचकर, गहना-जेवर बेचकर, आधा पेट खाकर बच्चों को पढ़ा रहे हैं। ऐसा रिजल्ट शिक्षकों या स्कूलों की वजह से नहीं बल्कि ग्रामीण बच्चों की मेहनत और उनके अभिभावकों की तत्परता से हुआ है। दरअसल पुराने और बड़े स्कूल उपेक्षित हुए हैं। वहां अच्छे शिक्षकों का लॉट समाप्त हो गया। सार्वजनिक शिक्षा व्यवस्था के ध्वस्त होने का एक तरह का यह संकेत है। ऐसे स्कूलों को सुधारना है तो बेहतर शिक्षक चुनना होगा। जिन बच्चों ने बढ़िया किया, वे अपने अधिक्रम से आगे बढ़े हैं।

इन स्कूलों का वर्चस्व टूटा

पटना हाईस्कूल, मिलर स्कूल, टीके घोष एकेडमी, पटना कालेजियएट स्कूल, पाटलिपुत्रा स्कूल, वाट्सन हाईस्कूल मधुबनी, एमएल एकेडमी लहेरिया सराय, जिला स्कूल पूर्णिया, संत जेवियर हाईस्कूल, राम मोहन राय सेमिनरी जैसे लब्ध प्रतिष्ठित स्कूलों का मैट्रिक टापरों की सूची में वर्चस्व कम होने से पुराने शिक्षकों की चिंता बढ़ गयी है। वे इसे संस्थागत क्षरण के रूप में देख रहे हैं। हालांकि स्कू ल प्रबंधन भी स्थिति में बदलाव के लिए आत्मंथन करने की बात कह रहा है।

बेहतरी को सलाह ’ माध्यमिक शिक्षकों की नियुक्ति कमीशन से की जाए ’ शिक्षकों की गुणवत्ता पर सरकार विशेष ध्यान दे ’ लाभुक योजनाओं का पैसा भेजने से ज्यादा पढ़ाने पर फोकस हो ’ परीक्षा में आब्जेक्टिब पर ज्यादा जोर बच्चों के संप्रेषण को क्षीण करेगा ’ जिला स्कूलों के पुराने सफल प्रैक्टिसेस फिर से दुहराए जाएं।

 

UP Board 10th, 12th Result 2020 Update : यूपी बोर्ड की 10वीं, 12वीं की 90 फीसदी कॉपियों का मूल्यांकन पूरा, जानें कब आ सकता है यूपी बोर्ड का रिजल्ट

27 May, 2020, 6:36 pm

यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा की 90 फीसदी कॉपियों का मूल्यांकन पूरा हो चुका है। ऐसे में  बोर्ड जल्द से जल्द यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट के रिजल्ट की तैयारियों में लगा हुआ है। बताया जा रहा है कि यूपी बोर्ड की बाकी की कॉपियों का मूल्यांकन भी इस सप्ताह पूरी हो जाने की उम्मीद है। इसलिए कहा जा रहा है कि यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट जून के आखिरी सप्ताह में जारी हो सकता है।

आपको बता दें कि साल 2019 में हाईस्कूल में  80.07 प्रतिशत परीक्षार्थी और इंटरमीडिएट में 70.06 प्रतिशत परीक्षार्थियों को सफलता मिली थी। 2018 की तुलना में हाईस्कूल के उत्तीर्ण प्रतिशत में 4.91 की वृद्धि हुई थी और इंटरमीडिएट में  2.37 की कमी हुई थी। हाई स्कूल की परीक्षा में गौतम रधुवंशी और इंटर की टॉपर तनु तोमर ने टॉप किया था। 

हाईस्कूल और इंटरमीडिएट के 56 लाख से अधिक छात्र-छात्राओं के परिणाम 24 अप्रैल तक घोषित होने थे। लेकिन कोरोना महामारी और लॉकडाउन के चलते इसमें काफी देरी हो गई है।

यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट के परिणाम https://www.fastresult.in/ पर घोसित किये जायेंगे। रिजल्ट आने पर स्टूडेंट्स www.fastresult.in पर अपना रिजल्ट चेक कर सकेंगे।

UBSE Board Exam 2020 Update : 15 जून से शुरू हो सकती हैं 10वीं और 12वीं की बची परीक्षाएं, पढ़ें डिटेल

27 May, 2020, 4:04 pm

उत्तराखंड बोर्ड ऑफ सेकेंड्री एजुकेशन (Uttarakhand Board of School Education) 10वीं और 12वीं की बची हुई परीक्षाओं का आयोजन का जून में करा सकता है। यह परीक्षाएं 15 जून से शुरू हो सकती हैं और 20 जून को खत्म हो सकती हैं। यह जानकारी में यूबीएसई के शिक्षा सचिव आर मीनाक्षी सुंदरम ने जिला अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर दी।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक शिक्षा सचिव ने कहा कि बोर्ड 15 जून से 20 जून के बीच लंबित परीक्षाओं के आयोजन करने के बारे में विचार कर रहा है, क्योंकि जून के अंतिम सप्ताह में भारी बारिश की संभावना है। ऐसे में परीक्षाएं कराना मुश्किल हो सकता है। इसलिए कोशिश की जा रही है कि इस दौरान परीक्षाएं करा ली जाएं। इसके अलावा, यूबीएसई बोर्ड परीक्षाओं को दो पालियों में आयोजित करने की भी योजना बना रहा है। इसके पीछे की वजह है कि परीक्षाएं जल्दी खत्म हो सकें। वहीं 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं के परिणाम जुलाई 2020 में जारी हो सकता है।

हालांकि छात्र-छात्राएं ध्यान दें कि बोर्ड ने अभी तक परीक्षा की तारीखों के बारे में कोई आधिकारिक सूचना जारी नहीं की है। लेकिन रिपोर्टों के अनुसार, जल्द ही अंतिम निर्णय लिया जाएगा और परीक्षा की यूबीएसई की आधिकारिक साइट पर जारी कर दी जाएगी। ऐसे में स्टूडेंट्स ध्यान दें कि वे ऑफिशियल वेबसाइट पर लेटेस्ट अपडेट चेक करते रहें।

बता दें कि देश भर में फैली महामारी कोरोना वायरस की वजह से तमाम राज्यों ने बोर्ड परीक्षाएं स्थगित कर दी गई हैं। वहीं अब जैसे-जैसे लॉकडाउन में छूट मिल रही है, वैसे-वैसे राज्य अब बोर्ड परीक्षाएं कराई जा रही हैं। इसके तहत हाल ही में गोवा ने परीक्षाएं शुरू कर दी थीं। वहीं इनके अलावा कई अन्य राज्यों ने भी परीक्षाओं का शेड्यूल तय कर लिया है। अब यह परीक्षाएं जून और जुलाई में कराई जा रही हैं।

जून के पहले सप्ताह में शुरू होगा मूल्यांकन:

उत्तराखंड बोर्ड की हाईस्कूल और इंटर की कांपियों का मूल्यांकन जून के पहले सप्ताह में शुरू होगा। इसके तहत 15 लाख से ज्यादा आंसर शीट का मूल्यांकन सात हजार टीचर्स करेंगे। मूल्यांकन के संबंध में शासन ने प्रस्ताव उच्चानुमोदन के लिए बढ़ा दिया है।

 

Maharashtra SSC Students to get their Average Score for Cancelled Geography Paper

27 May, 2020, 3:46 pm

In a relief to nearly 17 lakh students in the state, the education department had decided to cancel the final paper for SSC- Geography which was earlier scheduled to take place on March 23 but was cancelled owing to the lockdown.

Students who have appeared for their SSC (Class 10) examinations this year will be given average scores for the last paper -Geography which was cancelled owing to Covid-19. Scores of the other 5 papers would be considered to draw an average score for the paper, said board officials.

“The committee which was constituted to take a decision on the issue has decided to allot average scores to students for the Geography paper. The board will come up with a detailed statement by evening,” said Shakuntala Kale, chairperson of the Maharashtra State Board.

In a relief to nearly 17 lakh students in the state, the education department had decided to cancel the final paper for SSC- Geography which was earlier scheduled to take place on March 23 but was cancelled owing to the lockdown. The papers for vocational subjects which are offered to Children with Special Needs and are conducted 2-3 days after the actual board exams were also cancelled.

While there is no clarity about when the board would declare results of the SSC and HSC exams, an official from the education department said that they are likely to be declared by second week of June.

Chhattisgarh Board Result 2020 Update : जानें कब जारी होंगे 10वीं और 12वीं के नतीजे, स्टूडेंट्स पढ़ें डिटेल

27 May, 2020, 1:27 pm

छत्तीसगढ़ बोर्ड ऑफ सेकेंड्री एजुकेशन (Chhattisgarh Board of Secondary Education) की ओर से आयोजित होने वाली 10वीं और 12वीं की परीक्षा के नतीजों को लेकर एक बड़ी अपडेट सामने आई है। इसके मुताबिक दसवीं और बारहवीं के नतीजे जल्द जारी हो सकते हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कांपियों का मूल्यांकन कार्य पूरा हो चुका है। ऐसे में रिजल्ट तैयार करने में बस कुल पंद्रह दिन का समय लगेगा। इसलिए संभावना जताई जा रही है कि परिणाम जून के दूसरे सप्ताह में जारी हो सकते हैं। वहीं छात्र इस बात का भी ध्यान रखें कि 10वीं और 12वीं के नतीजे एक इस बार भी एक साथ जारी किए जाएंगे।

वहीं इसके अलावा अगर कल की बात करें तो बिहार बोर्ड यानी कि 10वीं के नतीजे जारी किए थे। रिजल्ट www.fastresult.in वेबसाइट पर जारी किए गए हैं। नतीजे घोषित होने के साथ ही टॉपर्स के नाम भी सामने आ गए हैं। दसवीं की परीक्षा में स्कूल के टॉप किया है। परीक्षा में हिमांशु राज ने 96.20 प्रतिशत अंक हासिल किए हैं। वहीं दूसरे स्थान पर दुर्गेश कुमार रहे हैं। इन्होंने कुल 480 अंक हासिल किए हैं। वहीं पिछले साल बिहार बोर्ड की मेट्रिक परीक्षा में सावन राज भारती ने टॉप किया था। इन्हें कुल 486 अंक मिले थे जो कि 97.2 प्रतिशत था। सावन जमुई स्थित सिमुलतला आवासीय विद्यालय के छात्र थे। पिछले साल ये विद्यालय काफी चर्चा में रहा था क्योंकि 18 टॉपर्स में से 16 टॉपर्स इसी विद्यालय से थे।

बता दें कि जैसे-जैसे केंद्र सरकार ने कोरोना में छूट दी है। इसके तहत तमाम शैक्षणिक संस्थानों ने शैक्षणिक गतिवधियां भी शुरू कर दी हैं। इसके मुताबिक तमाम राज्यों ने बोर्ड परीक्षाओं का शेड्यूल जारी कर दिया है। इनके अलावा सीबीएसई और आईसीएससी बोर्ड ने भी बची हुई परीक्षाओं के लिए डेटशीट जारी कर दिया है।

MPBSE 12th Revised Date Sheet 2020 : मध्य प्रदेश बोर्ड ने हायर सकेंड्री और हायर सकेंड्री वोकेशनल की बची परीक्षाओं की नई डेटशीट जारी की

27 May, 2020, 1:00 pm

मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल (MPBSE) ने एक हफ्ते पूर्व 20 मई जारी हायर सकेंड्री और हायर सकेंड्री वोकेशनल की बची परीक्षाओं के आयोजन के लिए टाइम-टेबल को संशोधित करते हुए फ्रेश डेट शीट जारी की है। एमपीबीएसई, एमपीबोर्ड रिवाइज्ड डेटशीट 2020 के मुताबिक परीक्षाएं 9 जून से ही शुरु होंगी लेकिन ये परीक्षाएं 15 जून की बजाय अब 16 जून 2020 तक चलेंगी।

मध्य प्रदेश बोर्ड ने संशोधित परीक्षा कार्यक्रम में दो अतिरिक्त विषयों के पेपरों, इकनॉमिक्स और क्रॉप प्रोडक्शन एवं हॉर्टिकल्टर को शामिल किया है, ये दोनो ही पहले जारी परीक्षा कार्यक्रम में शामिल नहीं थे। संशोधित परीक्षा कार्यक्रम में इन्ही दोनो पेपरो को 16 जून को आयोजित किया जाना है।

छात्र एमपी बोर्ड 12वीं परीक्षा 2020 का संशोधित परीक्षा कार्यक्रम fastresult वेबसाइट, www.fastresult.in पर जाकर डाउनलोड कर सकते हैं। छात्र नीचे दिये गये लिंक के माध्यम से भी एमपी 12वीं डेटशीट 2020 डाउनलोड कर सकते हैं।

एमपीबोर्ड रिवाइज्ड डेटशीट 2020 यहां डाउनलोड करें

ये हैं संशोधित परीक्षा कार्यक्रम

मध्य प्रदेश बोर्ड की हायर सकेंड्री और हायर सकेंड्री वोकेशनल की बची परीक्षाओं के लिए जारी संशोधित परीक्षा कार्यक्रम सामान्य और दिव्यांग दोनो ही वर्गों के छात्रों के लिए लागू होगा।

बता दें कि राज्य में 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं के अंतर्गत कुछ पेपरों का आयोजन नोवल कोरोना वायरस (कोविड 19) के मद्दनेजर स्थगित कर दी गयीं थीं। इसके बाद बोर्ड द्वारा इन पेपरों के लिए डेटशीट 20 मई को जारी की गयी थी।

Bihar Board 10th Result 2020 : सवालों के ज्यादा विकल्प के चलते रहा बंपर रिजल्ट

27 May, 2020, 9:30 am

Bihar Board 10th Result

बिहार बोर्ड के मैट्रिक रिजल्ट में अतिरिक्त विकल्प वाले प्रश्न का खूब फायदा विद्यार्थियों को मिला है। लगातार दूसरे साल बेहतर रिजल्ट होने में परीक्षा पैटर्न में बदलाव मुख्य कारण है। 2020 की बात करें तो बिहार बोर्ड ने जहां वस्तुनिष्ठ प्रश्न में विकल्प वाले प्रश्न बढ़ाए थे। वहीं, लघु उत्तरीय और दीर्घ उत्तरीय प्रश्नों में विकल्प वाले प्रश्न की संख्या बढ़ाई गयी थी। इसका असर रिजल्ट पर दिखा है। बोर्ड की मानें तो 2020 में वस्तुनिष्ठ प्रश्नों में 20 फीसदी विकल्प वाले प्रश्न पूछे गये थे। सौ अंक के प्रश्न में 60 प्रश्न विकल्प वाले थे। इसमें 50 का उत्तर देना था। दस प्रश्न यानी 20 फीसदी प्रश्न अतिरिक्त प्रश्न पूछे गये थे। लघु उत्तरीय प्रश्न में 75 फीसदी अतिरिक्त विकल्प दिये गये थे। वहीं, दीर्घ उत्तरीय प्रश्नों में सौ फीसदी अतिरिक्त विकल्प वाले प्रश्न पूछे गये थे। बिहार बोर्ड ने 2018 में सभी विषयों में 50 फीसदी वस्तुनिष्ठ प्रश्न देने की शुरुआत की। वहीं लघु उत्तरीय प्रश्न में 50 फीसदी अतिरिक्त विकल्प देना शुरू किया। वहीं दीर्घ उत्तरीय में प्रत्येक में एक आंतरिक विकल्प दिया गया। इससे 2018 में 18.77 फीसदी रिजल्ट में बढ़ोतरी हुई।

परीक्षा देकर छात्र थे खुश

बोर्ड द्वारा अतिरिक्त विकल्प देने से परीक्षार्थी काफी खुश थे। परीक्षा के दौरान उत्तर देने में छात्रों को उत्तर देने में सुविधा हुई। प्रश्न छूटने और प्रश्न नहीं आने का उधेरबुन छात्रों में नहीं हुआ। एक प्रश्न में दो प्रश्न का विकल्प था। ऐसे में जिन छात्रों को कोई प्रश्न नहीं आ रहा था तो इसका फायदा उन्हें बहुविकल्प वाले प्रश्नों से खूब मिला।

इस बार भी रिजल्ट 80 प्रतिशत के पार

इस बार भी मैट्रिक का रिजल्ट बेहतर हुआ है। पिछले साल की तुलना में रिजल्ट में आंशिक गिरावट आयी है। इसबार छात्रों की सफलता का प्रतिशत 80.59 रहा। वहीं पिछली बार परीक्षार्थियों की सफलता का प्रतिशत 80.73 रहा था।

इस तरह का रिजल्ट पिछले दो साल से आ रहा है। इस बार तो प्रथम श्रेणी से पास करने वाले छात्रों की संख्या चार लाख पार कर गयी है। सफल छात्रों के चेहरे खिले हुए हैं। रिजल्ट को देखकर अभिभावक भी काफी प्रसन्न हैं। बेहतर रिजल्ट होने से स्कूल प्रशासन भी खुश है। पिछले दस वर्षों में मैट्रिक 2019 का रिजल्ट का रिकार्ड नहीं टूटा है। बोर्ड के रिकार्ड की माने तो अभी तक 80 फीसदी तक रिजल्ट किसी भी साल नहीं गया है। 2000 से 2018 तक की बात करें तो मैट्रिक में 75 फीसदी तक उत्तीर्णता का प्रतिशत रहा है। बोर्ड की माने तो 2000 से 2012 तक रिजल्ट 67 से 70 फीसदी तक ही रिजल्ट रहा। वर्ष 2014 और 2015 की बात करें तो रिजल्ट 75 फीसदी तक गया था। 2014 में जहां 75.05 फीसदी तो वहीं 2015 में 75.17 फीसदी परीक्षार्थी पास हुए।

2009 से 2018 तक ऊपर-नीचे होता रहा रिजल्ट 

वर्ष 2009 से 2018 की बात करें तो रिजल्ट मे कई बार गिरावट आयी तो कई बार बढ़ा भी। 2018 की तुलना में 2019 में 11.89 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। 2015 से 2016 में मैट्रिक रिजल्ट में गिरावट आयी। 2014 में जहां 75.17 फीसदी परीक्षार्थी सफल हुए। वहीं 2016 में 47.15 फीसदी ही उत्तीर्ण हो पाए।

 

Bihar Board BSEB 10th Result 2020 LIVE Updates

26 May, 2020, 11:58 am

Bihar Board BSEB 10th Result 2020 Updates: The Bihar School Education Board (BSEB), Patna will declare the class 10th or matric exam result today (26 May 2020 at 12:30 PM). Over 15.29 lakh students who had appeared for the Bihar Board exam were awaiting the results. The evaluation process was halted due to the lockdown induced due to coronavirus. The wait will, however, be over today.

 

How to check Bihar Board 10th result 

Students can check their Bihar Board 10th result at the official website, biharboardonline.bihar.gov.in. Due to the number of students, a heavy load is expected on the official website. If candidates face problem, they can also check result at the alternative addresses –fastresult.in, bsebresult.online and biharboard.online.

Bihar Board 10th result today, Follow Steps

  1. Visit our website www.fastresult.in
  2. Select and click on the state you are looking to acquire results or directly visit - https://www.fastresult.in/result/bihar-10th-result-2020
  3. A form will be displayed on your screen. Fill up the mandatory details on the form and get your results!

With this, BSEB will become the first board to release both class 10th and class 12 results during the lockdown. Bihar Board had released class 12 or intermediate result in March in which 80.44 per cent of students cleared the exam. Currently, the scrutiny process is on for the class 12 exams. Meanwhile, last year for class 10 results, the pass percentage was at 80.73 per cent.

Bihar board 10th result 2020 Update : बिहार बोर्ड 10वीं का रिजल्ट कल होगा जारी, आनंद किशोर ने दी जानकारी

25 May, 2020, 3:34 pm

बिहार बोर्ड के 15 लाख स्टूडेंट्स के लिए अच्छी खबर है, बिहार बोर्ड मैट्रिक के नतीजे कल जारी किए जाएंगे। बोर्ड कल दोपहर 12:30 बजे वार्षिक माध्यमिक परीक्षा, 2020 के परीक्षाफल की घोषणा करेगा। कोरोना वायरस महामारी के कारण लागू हुए लॉकडाउन की वजह से इस परीक्षाफल की घोषणा के लिए प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन नहीं किया जाएगा।

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति  के अध्यक्ष आनंद किशोर ने यह जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि परीक्षाफल की घोषणा माननीय मंत्री जी, शिक्षा विभाग, श्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा द्वारा की जाएगी। इस अवसर पर श्री आर.के. महाजन, अपर मुख्य सचिव, शिक्षा विभाग भी उपस्थित रहेंगे। इस साल बिहार बोर्ड मैट्रिक में कुल 15.29 लाख छात्र-छात्राएं शामिल हुए थे। इनमें 7.83 लाख लड़कियां थीं। बिहार बोर्ड मैट्रिक की परीक्षाएं 17 फरवरी से 24 फरवरी के बीच आयोजित हुईं थी।

रिजल्ट में हुई देरी

24 मार्च को बिहार बोर्ड ने इंटर का रिजल्ट जारी कर दिया था। बोर्ड को योजना कुछ ही दिनों बाद मैट्रिक का रिजल्ट जारी करने की थी। लेकिन कोरोना वायरस महामारी और लॉकडाउन के चलते 31 मार्च के बाद से मूल्यांकन कार्य बाधित रहा। 6 मई से मूल्यांकन कार्य फिर से शुरू किया गया।

पिछले साल (2019) 6 अप्रैल को मैट्रिक के परिणाम आए थे। 80.73 प्रतिशत स्टूडेंट्स पास हुए थे। बिहार बोर्ड मैट्रिक 2018 की परीक्षा में कुल 68.89 प्रतिशत विद्यार्थी पास हुए थे। यानी पिछले साल रिजल्ट काफी बेहतर रहा था। 2019 में करीब 12 प्रतिशत स्डूटेंस ज्यादा पास हुए थे। सिमुलतला के सावन राज भारती ने बिहार बोर्ड 10वीं में टॉप किया था। पहले 5 रैंक पाने वाले 8 स्टूडेंट्स सिमुलतला के थे। टॉप 10 स्टूडेंट्स में दो को छोड़कर शेष सभी विद्यार्थी सिमुलतला के थे।

बिहार बोर्ड के मैट्रिक के परिणाम https://www.fastresult.in/ पर घोसित किये जायेंगे। रिजल्ट आने पर स्टूडेंट्स www.fastresult.in पर अपना रिजल्ट चेक कर सकेंगे।

BSEB Bihar Board 10th Result 2020 Update : जानें बिहार बोर्ड मैट्रिक के पासिंग मार्क्स और ग्रेस मार्क्स नियम

25 May, 2020, 3:01 pm

बिहार बोर्ड मैट्रिक के 15 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स मैट्रिक रिजल्ट का इंतजार कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि बिहार बोर्ड ने पेंडिंग पोस्ट इवैल्यूएशन प्रक्रिया, वेरिफिकेशन और रिजल्ट अपलोडिंग से जुड़े कार्य करीब करीब पूरे कर लिए हैं। उम्मीद की जा सकती है कि बिहार बोर्ड मैट्रिक रिजल्ट 2020 की घोषणा आज या एक दो दिन में हो सकती है। परिणाम का इंतजार कर रहे स्टूडेंट्स को पासिंग मार्क्स और बिहार बोर्ड की ग्रेस मार्क्स पॉलिसी के बारे में भी पता होना चाहिए। यहां हम आपको बताने जा रहे हैं कि आखिर बिहार बोर्ड 10वीं कक्षा पास करने के लिए छात्रों को कितने नंबर लाने होंगे -

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार मैट्रिक परीक्षा में पास होने के लिए कम से कम 30 फीसदी मार्क्स लाने आवश्यक है। यानी हर विषय में छात्र के 100 में से कम से कम 30 मार्क्स होने चाहिए। एग्रीगेट 150 अंक होना जरूरी है। छात्र को पास घोषित होने के लिए इंग्लिश और ऑप्शनल सब्जेक्ट (वैकल्पिक विषय) को छोड़कर अन्य सभी विषयों में पास होना होगा। सोशल साइंस और साइंस समेत प्रैक्टिल विषयों में छात्र को थ्योरी और इंटरनल असेसमेंट दोनों में पास होना जरूरी होगा और इसके लिए 100 में से कम से कम 30 अंक लाने होंगे।

ग्रेस मार्क्स पॉलिसी

पास प्रतिशत बेहतर करने के लिए बिहार बोर्ड ने ग्रेस मार्क्स देने की नीति अपना रखी है।  इसके मुताबिक अगर कोई छात्र किसी एक विषय में 8 प्रतिशत या इससे कम नंबर या दो विषयों में 4-4 प्रतिशत व उससे कम नंबर से फेल हो जाता है तो ​उसे ग्रेस नंबर देकर अगली कक्षा में प्रमोट कर दिया जाता है। वहीं अगर कोई छात्र कुल 75 प्रतिशत अंक (एग्रीगेट) हासिल करता है और किसी एक विषय में 10 प्रतिशत से कम नंबर से फेल हो जाता है तो उसे पास घोषित कर दिया जाता है। 

JAC 10th 12th Result 2020 Update : झारखंड 10वीं, 12वीं का रिजल्ट जूलाई के पहले सप्ताह तक

25 May, 2020, 2:49 pm

झारखंड एकेडमिक काउंसिल मैट्रिक-इंटर परीक्षा के मूल्यांकन की तैयारी में जुट गया है। झारखंड बोर्ड की कॉपियों का मूल्यांकन 28 मई से शुरू होगा। अधिकारियों के अनुसार झारखंड दसवीं , 12वीं बोर्ड का रिजल्ट जुलाई के पहले सप्ताह तक जारी करने के लिए लक्ष्य रखा है।

जैक के सेक्रेटरी का कहना है कि झारखंड बोर्ड की कॉपियों का मूल्यांकन  19 जिलों के 67 केंद्रों में 28 मई से शुरू होगा। मूल्यांकन प्रक्रिया में 9500 शिक्षक हिस्सा लेंगें। मूल्यांकन शेड्यूल के करीब दो महीने बाद शुरू की जा रही है। मई में जैक बोर्ड रिजल्ट घोषित करने वाला था और मार्च में मूल्यांकन प्रक्रिया शुरू की गई थी लेकिन कोरोना संक्रमण और लॉकडाउन के कारण जैक के कार्यक्रम पर पानी फिर गया।   जैक ने मूल्यांकन प्रक्रिया को स्थगित करने का फैसला लिया।

आपको बता दें कि इससे पहले मूल्यांकन करने से पहले दिशा-निर्देश दिए गए थे। काउंसिल के अध्यक्ष अरविंद प्रसाद सिंह ने कहा  था कि मूल्यांकन केंद्र के कमरे में एक बैंच-डेस्क पर एक ही परीक्षक बैंठेंगे। दो बेंच डेस्क के बीच में कम से कम छह फीट की दूरी रखने का निर्देश दिया गया है। इसके साथ ही काउंसिल की ओर से सभी परीक्षकों को मास्क और सैनिटाइजर उपलब्ध कराया जाएगा। लेकिन साफ-सफाई की पूरी जिम्मेदारी हर मूल्यांकन केंद्र के निदेशक पर होगी। काउंसिल ने बताया कि मूल्यांकन को लेकर सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों के साथ अगली बैठक 29 अप्रैल को वीडियो कांफ्रेंस के द्वारा की जाएगी। इसमें सभी केंद्रो की समीक्षा भी होगी।

 

download india's

#1 fast result app

Enter your phone number to get install link

Play Store Link - FastResult

or

Apple Store Link - FastResult
 Download FastResult App

to know your result

register here

why choose fastresult ?

  • Save & Share Your Result

    You can save and share your result with yours friends or family via social media like whatsapp, facebook etc with single click in PDF & Image Format.

  • Notification

    Get notification of your Result & Exam time table/Date Sheet when it is out.

  • Fast Result Showing & Downloading

    We use latest technology which helps you to view or download your result with fast speed.

  • Discuss

    You can discuss your queries or question with all users and get answer of question.You can post your queries in text or image.Get likes on your post.

What our users say about us...

check your result now on the go!


download india's #1 fast result app


Enter your phone number to get install link

or

Play Store Link - FastResult Apple Store Link - FastResult